Friday, 17 May 2013

श्रीशांत और चंदीला को लड़कियां भी सप्लाई की गईं

नई दिल्ली।। आईपीएल में मैच फिक्सिंग के लिए राजस्थान रॉयल्स के क्रिकेटरों ने बुकीज से सिर्फ पैसे नहीं लिए। दिल्ली पुलिस को बुकीज के फोन कॉल्स से जो सबूत मिले हैं, उससे पता चलता है कि गिरफ्तार किए गए कम से कम दो क्रिकेटरों को लड़कियां भी सप्लाई की गई थीं। अंग्रेजी अखबार इंडियन एक्सप्रेस में छपी रिपोर्ट के मुकाबिक, सट्टेबाजों की रिकॉर्डेड बातचीत से पता चलता है कि दो बुकियों मनन और चांद ने एस. श्रीशांत और अजीत चंदीला के लिए कम से कम तीन बार लड़कियों की व्यवस्था की थी। दिल्ली पुलिस के एक ऑफिसर ने बताया कि इन बातचीतों में कई बार लड़कियों को भेजने और उनके पहुंचने का जिक्र आता है।

इस बीच पूरे मामले में पहली बार श्रीशांत का पक्ष सामने आया है। टीम इंडिया के इस पूर्व खिलाड़ी ने माना कि वह स्पॉट फिक्सिंग में शामिल थे। कोर्ट में पेश किए जाने से पहले मलयालम टीवी चैनलों से बातचीत करते हुए श्रीशांत ने कहा कि मैंने गलती की है।

राजस्थान रॉयल्स के एक तीसरे खिलाड़ी ने भी बुकी की ओर से भेजी गई इस 'सेवा' का सुख लिया, लेकिन बताया जा रहा है कि वह स्पॉट फिक्सिंग के रैकेट में शामिल नहीं थे। श्रीशांत के कजन बताए जाने वाले बुकी जीजू उर्फ बीजू ने भी एस्कॉर्ट्स की सर्विस ली। मुंबई के खार एरिया से बुधवार देर रात जब श्रीशांत और जीजू को गिरफ्तार किया गया, तो उनके साथ लड़कियां थीं। दोनों अलग-अलग गाड़ियों में आरजी नाइटक्लब भी गए थे। इस रैकेट में शामिल एक बुकी पिछले सात तक राजस्थान रॉयल्स का हिस्सा था। उस खिलाड़ी का नाम अमित कुमार बताया जा रहा है।

दिल्ली के पुलिस कमिश्नर नीरज कुमार ने बताया कि बुकीज के फोन कॉल्स से पता चलता है कि ये लोग दो गिरफ्तार क्रिकेटरों को लड़कियां सप्लाई कर रहे थे, लेकिन हम उन लड़कियों के खिलाफ कोई चार्ज नहीं लगाया हैं क्योंकि वे स्पॉट फिक्सिंग रैकेट का हिस्सा नहीं हैं।

पुलिस कमिश्नर ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा था कि इस पूरे रैकेट को सलमान नाम का शख्स दुबई से ऑपरेट कर रहा है। मार्च में पुलिस ने गृह मंत्रालय से इस आरोपी का फोन टैप करने की इजाजत मांगी थी। हालांकि यह पता नहीं चला है कि सलमान उसका असली नाम है या नकली। फोन पर होने वाली उनती बातचीत से पता चला था कि आईपीएल-6 में कई मैच फिक्स होने वाले थे।

No comments:

Post a Comment