Tuesday, 17 July 2012

सलमान से 'गुपचुप' क्‍यों मिले? पूछने पर भड़के अन्‍ना

नई दिल्‍ली. जनलोकपाल की मांग को लेकर सरकार को परेशानी में डालने वाले समाजसेवी अन्‍ना हजारे की केंद्रीय कानून मंत्री सलमान खुर्शीद से हुई गुपचुप मुलाकात पर सवाल उठने लगे हैं। बताया जा रहा है कि अन्‍ना और सलमान की यह मुलाकात बीते 23 को हुई थी। पुणे-नासिक हाईवे से 90 किलोमीटर दूर फिरौदिया नाम के गेस्ट हाउस में हुई इस मुलाकात के बारे में अब अन्ना कुछ भी बोलना नहीं चाह रहे हैं। पुणे में पत्रकारों ने अन्‍ना से जब इस मुलाकात के बारे में सवाल किया तो वह कुछ नहीं बोले। हालांकि उन्‍होंने इससे इनकार भी नहीं किया कि उनकी सलमान खुर्शीद से मीटिंग हुई थी। उन्‍होंने कहा कि समय आने पर सब कुछ बता देंगे। जिस रिपोर्टर ने अन्‍ना ने यह सवाल किया उसपर ही अन्‍ना भड़क गए। उन्‍होंने पूछा, 'आपकी इसमें क्‍यों दिलचस्‍पी है? अन्ना को जब पारदर्शिता का हवाला दिया गया, तो उन्होंने यहां तक कह दिया कि 'पारदर्शिता के चक्कर में जेल जाना पड़ेगा।' गौरतलब है कि इस प्रेस कांफ्रेंस में अन्‍ना के साथ बाबा रामदेव भी थे। खुर्शीद ने इस सवाल के जवाब में संकेत दिया कि वो अन्‍ना से मिले हैं। उन्‍होंने कहा, 'मैं अच्‍छे लोगों से मिलता रहता हूं।' हालांकि उन्‍होंने यह नहीं बताया कि दोनों के बीच क्‍या बात हुई? वहीं कांग्रेस प्रवक्‍ता मनीष तिवारी इस सवाल के जवाब से पल्‍ला झाड़ते दिखे। सूत्रों के मुताबिक केंद्रीय मंत्री अपनी पत्‍नी लुई खुर्शीद के साथ अन्‍ना से मिलने नासिक पहुंचे। केंद्रीय मंत्री ने अन्‍ना से अनुरोध किया कि टीम अन्‍ना की तरफ से जारी की गई भ्रष्‍ट मंत्रियों की लिस्‍ट में से उनका नाम हटा लिया जाए। ऐसी खबर है कि अन्ना और उनके ड्राइवर ही इस मुलाकात में आए थे इसलिए इस बात के भी कयास लगाए जा रहे हैं कि अन्ना इस मीटिंग में अकेले ही आए और उनके सहयोगियों को इसकी जानकारी नहीं थी। अन्ना के बेहद करीबी माने जाने वाले और अन्ना की सभी गतिविधियों की जानकारी देते रहने वाले सुरेश पठारे ने भी इस बाबत कुछ नहीं बताया है। अन्ना हजारे की खुर्शीद की इस गुपचुप मुलाकात पर सवाल उठने लाजमी हैं। भ्रष्टाचार के खिलाफ आवाज बुलंद करने वाले टीम अन्‍ना ने बीते 26 मई को प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह सहित 15 मंत्रियों के भ्रष्‍टाचार में लिप्‍त होने का आरोप लगाया था। टीम अन्‍ना ने भ्रष्‍टाचार के आरोपों के सबूत के तौर पर दस्‍तावेजों के साथ एक चिट्ठी पीएम को लिखी थी। इसमें हजारे के अलावा अरविंद केजरीवाल, शांति भूषण, प्रशांत भूषण, किरण बेदी और मनीष सिसौदिया के दस्‍तखत थे।

Tuesday, 3 July 2012

आईसीयू में है रेलवेः प्रबोध पान्डा

भारतीय रेलवे जिसे हमारे देश में सर्वाधिक रोजगार देने वाला उपक्रम माना जाता है, लेकिन पिछले काफी दिनों से वह चर्चा में रही है। चाहे वो रेलमंत्री की स्थायित्व और जिम्मेदारियों की बात हो, नई योजनाओं का मामला हो, साफ-सफाई का मामला हो, अवैध् वैण्डरों का मामला हो या फिर तत्काल टिकटों की खरीद-फरोख्त में दलालों की बढ़ती सक्रियता हो सबने रेलवे की साख को गिराया ही है। रेलवे की इन तमाम समस्याओं को लेकर अभी हाल ही में रेलवे के सलाहकार समिति के सदस्य और मेदिनीपुर (पश्चिम बंगाल) से सीपीआई (एम) के लोकसभा सांसद *प्रबोध पान्डा* की मुलाकात हमारे संवाददाता *अजय पाण्डेय* से हुई। पेश है बातचीत के मुख्य अंश-

वर्तमान में रेलवे कई बिन्दुओं पर घिरी हुई दिखाई दे रही है जिसमें सफाई का मुद्दा सबसे अहम है। आप इसे कैसे देखते हैं?
आज रेलवे की जो हालत है वो अब तक के रेल इतिहास के सबसे बुरे दौर में है। इसका मुख्य कारण है कि यहां न तो कोई नियम कानून है और न ही एक समुचित नौकरशाही। जिसकी वजह से किसी भी प्रकार की योजनाओं को मूर्तरूप नहीं दिया जा रहा। साफ-सफाई इसी उपेक्षित नौकरशाही का परिणाम है। आप ऐसा कह सकते हैं कि रेलवे में पूरी तरह अराजकता व्याप्त है जहां जिसे जो समझ में आ रहा है कर रहा है। किसी भी तरह की कोई सामूहिक जिम्मेदारी नहीं है।

वर्तमान में रेलवे कौन-कौन सी नई परियोजनाओं पर काम कर रही हैं?
आज रेलवे के पास कोई नई योजनायें नहीं हैं जितनी भी योजनाएं चल रही हैं वो सभी लालू यादव के समय की हैं। अभी आप देखिए लालू यादव के बाद ममता बनर्जी रेलमंत्री बनी उसके बाद दिनेश त्रिवेदी अब मुकुल राय। अब कोई भी मंत्री ठीक से एक साल काम नहीं कर पाता है तो आप किस तरह की योजनाओं और विकास की बात करते हैं। किसी भी योजना और विकास के लिए टिक कर काम करना जरूरी होता है लेकिन यहां तो मंत्रालय ही आपाधापी कर कर रहा है।

लालू यादव, ममता बनर्जी, दिनेश त्रिवेदी और अब मुकुल राय इनमें से सबसे बेहतर * *रेलमंत्री किसे मानते हैं?
देखिए, किसी भी मंत्री की तुलना के लिए उसके पूरे कार्यकाल का कामकाज देखना पड़ता है। लालू यादव ने अपना कार्यकाल तो पूरा कर लिया, लेकिन ममता बनर्जी, दिनेश त्रिवेदी और मुकुल राय इनमें से किसी ने अपना कार्यकाल पूरा नहीं किया है। ऐसे में इनकी तुलना थोड़ी मुश्किल है। लेकिन यहां स्पष्ट है कि लालू यादव के बाद रेलवे काफी घाटे में चल रही है। लालू यादव ने अपने सभी बजटों में बचत लाभ दिखाया था। लेकिन उनके बाद अभी तक यह लाभ देखने को नहीं मिला।

पिछले रेलमंत्री दिनेश त्रिवेदी ने कहा था कि रेलवे आईसीयू में है, कितना सहमत हैं?
बिल्कुल सही कहा था कि रेलवे आईसीयू में है। लेकिन किसी को क्या? ममता बनर्जी कहती हैं कि वो विजन 2020 देख रही हैं लेकिन अब वे ही बताएं कि विजन 2020 तीन साल में तीन रेलमंत्री बदलकर हो कैसे पूरा हो सकता है? *

इस बात में कितनी सच्चाई है कि योजना आयोग ने रेलवे की आर्थिक नीतियों को नियोजित करने की बात कही थी और अगर यह सही है तो इस मामले में बात कहा तक पहुंची?
हां, ये सही है कि योजना आयोग ने रेलवे के सामने ऐसा प्रस्ताव रखा था, लेकिन उसने यह भी शर्त रखी थी कि बजट कम से कम 300 करोड़ का हो। लेकिन रेलवे मंत्रालय ने इस बजट को 300 करोड़ तक होने ही नहीं दिया। अब इस बात से रेलवे के मंतव्य को जाना सकता है। आज रेलवे में जो कुछ भी चल रहा है वो अराजकता का ही परिणाम है जो किसी भी योजना को क्रियान्वित होने से रोक रहा है।

आपके अनुसार रेलवे को आईसीयू से बाहर निकालने के लिए क्या करना होगा?
देखिए, रेलवे एक सार्वजनिक उपयोगिता का क्षेत्र है जो कई मुश्किलों के दौर से गुजर रहा है। रेलवे की पूरी व्यवस्था ध्वस्त हुई पड़ी है। इसमें सभी पार्टियों को मिलकर काम करना चाहिए। उन मुद्दों पर न सिर्फ बहस की जरूरत है बल्कि उन बातों के सामाधन ढूंढने की भी जरूरत है जिनकी वजह से रेलवे आज भी आईसीयू में है।

संवाददाता- अजय पाण्डेय 
AMAR BHARTI (HINDI DAILY) 
Pratap Bhawan, 5, Bahadurshah Zafar Marg, New Delhi-110002 
Tel.:011-23724460, 43083451 Fax:011-23724456

Sunday, 1 July 2012

सानिया और कंट्रोवर्सी, हमेशा रहा है चोली-दामन का साथ!

टेनिस में तेज सर्विस की कोशिश में अक्सर डबल फॉल्ट होता है। सानिया भी जितनी तेजी से आगे बढ़ीं, उतने ही विवाद भी उनके साथ लगे रहे। अब उन्होंने दो खिलाडिय़ों के अहं के टकराव में मोहरा बनाने की बात कहकर नई चर्चा छेड़ दी है। बात सानिया के बचपन के दिनों की है, जब वे महज छह साल की थीं। सानिया के पिता इमरान मिर्जा उन्हें हैदराबाद में एक कोच के पास लेकर गए। लेकिन कोच ने यह कहकर सानिया को कोचिंग देने से मना कर दिया कि अभी वे बहुत छोटी हैं। यह उम्र गुड्डे-गुडिय़ों जैसे खेल खेलने की है, टेनिस का प्रशिक्षण लेने की नहीं। लेकिन जब कोच ने उन्हें रैकेट पकड़कर फॉरहैंड शॉट लगाते देखा तो वे सानिया के टैलेंट के आगे नतमस्तक हो गए। उन्होंने तत्काल इमरान मिर्जा को बुलाकर कहा? इतनी कम उम्र में इतनी ज्यादा टैलेंटेड खिलाड़ी उन्होंने पहले कभी नहीं देखी। यह तो फ्यूचर स्टार है। तो यह सानिया की शुरुआत थी। हर सफल व्यक्ति के साथ जिस तरह विवाद जुड़ जाते हैं, उसी तरह सानिया भी विवादों से मुक्त नहीं रही हैं। वे टेनिस कोर्ट से ज्यादा विज्ञापनों और अफेयरों के चलते अखबारों की सुर्खियों में नजर आईं, लेकिन कभी हार न मानने की जिजीविषा के दम पर उन्होंने तमाम बाधाओं से पार पा लिया। भूपति के पिता से ली कोचिंग सानिया ने छह साल की उम्र में टेनिस खेलना शुरू किया था। उन्होंने अपने पिता और स्पोट्र्स जर्नलिस्ट इमरान मिर्जा से खेल की बारीकियां सीखीं। पेशेवर प्रशिक्षण महेश भूपति के पिता सीके भूपति से 12 साल की उम्र से लेना शुरू किया। इसके लिए वे पहले सिकंदराबाद की टेनिस एकेडमी में गईं, फिर अमेरिका में भी कोचिंग ली। कॉर्पोरेट घरानों का मिला साथ टेनिस एक महंगा खेल माना जाता है और पेशेवर कोचिंग में हर महीने लाखों का खर्च आता है। सानिया ने जब पेशेवर कोचिंग लेना शुरू किया तो उनके पिता के लिए इसका खर्च उठाना मुश्किल होने लगा। हारकर उन्होंने कॉर्पोरेट जगत से मदद की अपील की। सानिया की किस्मत अच्छी थी कि एडिडास तथा जीवीके इंडस्ट्रीज उनके प्रायोजक बनने को तैयार हो गए। शादी के किस्से 2009 में बचपन के दोस्त सोहराब मिर्जा के साथ उनकी मंगनी हुई, लेकिन जल्द ही टूट गई। फिर एक करोड़पति व्यवसायी फैजान उदयावर के साथ अफेयर की खबरें आईं, लेकिन छह महीने बाद ही पाकिस्तानी क्रिकेटर शोएब मलिक के साथ उनके रिश्ते सार्वजनिक हो गए। अप्रैल 2010 में दोनों ने शादी कर ली। फिर एक महिला ने दावा किया कि शोएब के साथ उसकी शादी हो चुकी है और शोएब व सानिया की शादी वैध नहीं हो सकती। अंतत: शोएब को महिला को तलाक देना पड़ा। कुरान पढऩा नहीं भूलतीं अंतरराष्ट्रीय टेनिस मैचों में व्यस्तताओं के बावजूद सानिया हर दिन कुरान की आयतें पढ़ती हैं और नियमित नमाज भी अदा करती हैं। खाली समय में उन्हें इंटरनेट पर सर्फिंग करना तथा फिल्में देखना पसंद है। इसके साथ ही वे हिंदी फिल्मों के गानें भी खूब सुनती हैं। बिरयानी है पसंद खाने में उनकी पसंदीदा डिश बिरयानी है, लेकिन केला और सेब जैसे फल उन्हें नहीं भाते। फुर्सत के समय जींस-शर्ट या फिर सलवार-कुर्ता पहनना पसंद करती हैं। खेल में उन्हें टेनिस के अलावा क्रिकेट देखना अच्छा लगता है। विवादों के कोर्ट में... तिरंगे का अपमान वर्ष 2008 में होपमैन कप के दौरान एक तस्वीर में सानिया के पैरों के सामने भारत का तिरंगा रखा दिखाया गया। इसे तिरंगे का अपमान समझा गया। सेक्स पर विचार नवंबर 2005 में सानिया ने सेफ सेक्स को लेकर कॉन्फ्रेंस में विचार रखे तो विवाद हुआ। बाद में उन्हें स्पष्टीकरण देना पड़ा कि वे शादी से पहले सेक्स के खिलाफ हैं। टेनिस कोर्ट पर छोटे कपड़े 2005 में टेनिस कोर्ट पर सानिया की शॉर्ट ड्रेस के चलते कट्टरपंथी ताकतों ने जमकर आलोचना की। इसे इस्लाम विरोधी बताकर उनके खिलाफ फतवे भी जारी किए गए। 


ओर अधिक हिंदी न्यूज़ पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे ......   www.AmarBharti.com

विधायक के साथ दुर्व्यवहार मामले में पांच गिरफ्तार

कांग्रेस विधायक रूमी नाथ और उनके दूसरे पति पर कथित तौर पर हमला करने के मामले में पांच लोगों को गिरफ्तार किया गया है। पुलिस आयुक्त प्रदीप पुजारी ने बताया की महिला विधायक पर हमला मामले में पांच संदिग्ध व्यक्तियों को यहां पर गिरफ्तार किया गया। नाथ और उनके पति को शुक्रवार को लोगों के एक गुट ने पिटाई कर घायल कर दिया था। यह गुट विधायक द्वारा अपने पहले पति को तलाक दिए बिना दूसरी शादी किए जाने को लेकर नाराज था। विधायक और उनके पति को गुवाहाटी पहुंचाया गया और उपचार कराया गया। उनकी हालत खतरे से बाहर बतायी जा रही है। पुजारी ने बताया कि कांग्रेस की विधायक ने एक एफआईआर दर्ज कराई है। उन्होंने आरोप लगाया है कि भीड़ ने राजनीतिक इरादों से उनपर हमला किया। इस मामले की जांच की जा रही है। नाथ ने अपने उपर हमले को राजनीतिक साजिश करार देते हुए कहा, मुक्षे आंतरिक और बाहरी तौर पर कुछ चोट पहुंची है। आज से इलाज करा रही हूं और मुझे लगता है कि जल्द ही ठीक हो जाऊंगी 




ओर अधिक हिंदी न्यूज़ पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे ......   www.AmarBharti.com