Monday, 29 April 2013

सरबजीत को इलाज के लिए विदेश नहीं भेजेगा पाक, भारत ने अपने ही नेताओं को लगाई लताड़

लाहौर/नई दिल्ली. भारत में चीन की एक और घुसपैठ व अफगानिस्‍तान को अमेरिका की ओर से रिश्‍वत दिए जाने की खबरों के बीच पाकिस्‍तान से भारत के लिए निराशाजनक खबरें आ रही हैं। कोट लखपत जेल में हमले से घायल सरबजीत की जान से पाकिस्‍तान खिलवाड़ कर रहा है तो भारत भी इस मसले पर गंभीर नही दिखाई दे रहा है। सरबजीत की बचने की उम्मीद कम है। 48 घंटे बाद भी उसकी हालत में सुधार नहीं हुआ है। उसे ब्रेन हेमरेज का खतरा बना हुआ है।

सरबजीत के परिवार वालों की मांग है कि उन्‍हें इलाज के लिए भारत भेजा जाए। लेकिन इसकी संभावना नहीं लगती, क्‍योंकि पाकिस्‍तान सरकार ने सरबजीत के स्‍वास्‍थ्‍य पर नजर रखने के लिए चार डॉक्‍टरों का जो पैनल बनाया था उसने इसके खिलाफ सिफारिश की है। पैनल ने कहा है कि सरबजीत इलाज के लिए विदेश भेजने की जरूरत नहीं है। भाजपा और सपा ने सरबजीत को भारत लाकर बेहतर इलाज मुहैया कराने की मांग की है जबकि केंद्र सरकार में मंत्री राजीव शुक्‍ल का कहना है कि इस मसले को बेवजह तूल दिया जा रहा है।

पाकिस्तान पहुंची सरबजीत की बहन, पत्नी और बेटियों ने कड़ी सुरक्षा के बीच अस्पताल जाकर आईसीयू की खिड़की से सरबजीत को देखा। इस दौरान बेटियां भावुक हो गईं। परिवार के किसी को भी सदस्य को सरबजीत के नजदीक नहीं जाने दिया गया। डॉक्टरों का कहना है कि इससे सरबजीत और परिवार को दिक्कत हो सकती है।

जिन्ना अस्पताल को सब-जेल में तबदील कर दिया गया है। आईसीयू के आसपास किसी को जाने नहीं दिया जा रहा। अस्पताल में जगह-जगह हथियारबंद पुलिसबल तैनात किया गया है।

No comments:

Post a Comment