Monday, 10 September 2012

'मिनरल वाटर' से पांव धोते हैं लालू...!


मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने राजद प्रमुख लालू प्रसाद द्वारा ‘मिनरल वाटर’ से पैर धोने के मामले में सोमवार को चुटकी लेते हुए कहा कि वे तो इसका उपयोग पीने के लिए करते हैं।

गोपालगंज में एक जनसभा के दौरान लालू प्रसाद रविवार को मिनरल वाटर की बोतल से अपना पैर धोते हुए दिखे थे। उनके बगल में पूर्व सांसद प्रभुनाथसिंह भी मंच पर बैठे हुए थे। इस संबंध में संवाददाताओं के सवाल पर लालू पर चुटकी लेते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि यह तो लालू जी जाने। हम तो मिनरल वाटर केवल पीने के काम में लाते हैं। 

विनाशकाले विपरीत बुद्धि : विशेष राज्य का दर्जा की मांग को लेकर राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद के बयानों से आहत नीतीश कुमार ने कहा कि पूर्व मुख्यमंत्री का 'विनाश काले विपरीत बुद्धि' वाला हाल है। लालू प्रसाद बिहार को विशेष राज्य का दर्जा देने के संबंध में जदयू के अभियान को आड़े हाथ ले रहे हैं और इसके बदले में राज्य को विशेष पैकेज देने की मांग को व्यावहारिक बता रहे हैं। 

मुख्यमंत्री ने इस संबंध में लालू के बयान पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा, विशेष राज्य का दर्जा बिहार के जन-जन की मांग है और राज्य के लोगों का हक है। बिहार का नेता होने का दावा करने वाला व्यक्ति (लालू) विशेष राज्य का दर्जा का विरोध करता है तो इसे विनाश काले विपरीत बुद्धि ही कहेंगे। 

आगामी चुनावों में राजग के बड़ी शक्ति के रूप में उभरने का परोक्ष रूप से संभावना व्यक्त करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा, जनता हमें इतनी शक्ति देगी कि हम विशेष राज्य का दर्जा लेकर रहेंगे। विशेष राज्य को लेकर पुराने पैमाने पर केंद्र को लकीर का फकीर बने नहीं रहना चाहिए। 

नीतीश ने कहा कि अभी विशेष पैकेज नहीं, बल्कि विशेष राज्य का दर्जा की मांग करने की दरकार है। विशेष पैकेज तो केंद्र की ओर से 10वीं पंचवर्षीय योजना से मिल रहा है। दिल्ली में राजग सरकार में रहते हुए इसे हमने उठाया था। उन्होंने कहा, बिहार को विकसित राज्य बनाना है तो विशेष राज्य का दर्जा केंद्र को देना होगा। 2006 से इसकी मांग हम उठा रहे हैं। बिहार विधानमंडल में सर्वसम्मति से इसका प्रस्ताव पारित किया गया था। राजद ने भी इसका समर्थन किया था। 

पीएम पद का उम्मीदवार राजग तय करेगा : शिवसेना प्रमुख बाल ठाकरे द्वारा सुषमा स्वराज को प्रधानमंत्री पद का उम्मीदवार बताए जाने पर नीतीश ने कहा, प्रधानमंत्री के उम्मीदवार का फैसला राजग की बैठक में तय होगा। इस मामले में मेरी टिप्पणी की जरूरत नहीं है। भाजपा इस पर विचार रखेगी तो सहयोगी दल चर्चा करेंगे और राजग की ओर से कोई फैसला होगा। पहले भी ऐसा होता आया है कि भाजपा प्रधानमंत्री उम्मीदवार के बारे में विचार रखती आई है। 

वर्ष के अंत में होने वाले गुजरात विधानसभा और वहां चुनाव प्रचार के लिए जाने के संबंध में पूछे गए सवाल के बारे में नीतीश ने कहा, इस संबंध में फैसला पार्टी का शीर्ष नेतृत्व लेगा। मैं आने वाले समय में अधिकार यात्रा, सेवा यात्रा और बिहार विधानमंडल के शीत सत्र में व्यस्त रहूंगा। इसके अलावा पाकिस्तान जाने का भी कार्यक्रम है। जदयू पहले भी गुजरात में विधानसभा चुनाव लड़ती रही है। 

No comments:

Post a Comment